हमें शिक्षा को हमारी महानतम योग्यताओके विकास के साधन के रूप में सोचना चाहिए ,क्योंकि हममे से प्रत्येक के अन्दर एक छुपी हुई आशा और सपना है,जो पूर्ण होने पर प्रत्येक के लाभ एवं राष्ट्र शक्ति के रूप में सामने आ सकता है –जॉन एफ कैनेडी.

विगत कई वर्षो से शिक्षाविद होने के नाते मैं आज के समाज में एक प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान की सक्रिय भूमिका का पूर्ण समर्थन करती हू |अगर मै एक ऐसे पद पर आसीन होने में गर्व का अनुभव करती हू जो राष्ट्र के सर्वाधिक महत्वपूर्ण साधन युवा ,प्रभावी मस्तिष्क को सांचे में ढालने का काम करती है तो मै इस उधोग के दुसरे पहलुओ के प्रति भी उतनी ही संवेदनशील हूं|

आज के वैश्विक और राष्ट्रीय संदर्भ को देखते हुये हम के. वी. १ में पूरी तरह प्रयासरत है की उत्कृष्टता हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग है |हमारा विद्यालय एक संगम है ,उर्जावान ,सीखने को तत्पर छात्र ,सहयोगी अभिभावक एव समर्पित प्रशिक्षित शिक्षक वर्ग जो छात्रों को उत्कृष्ट शिक्षा देने के लिये कटिबद्ध है |हम छात्रों को एक संतुलित वातावरण देते है ,जिसमे मुख्य उद्देश्य विकासशील माध्यम से समग्र शिक्षा देकर उन्हें कल के नायक के रूप में उभारना है |विद्यालय का वातावरण उनमे सीखने की ललक ,स्वतंत्रता ,क्रम्बधता ,दुनिया से साझेदारी और एक सामाजिक उत्तरदायित्व की भावना का विकास करता है |के. वि. क्रमांक अपने अप्रतिम,सुपरिभाषित पाठ्यक्रम और “कक्षात्तेर शिक्षण “ की भावना के साथ पोषण करता है ,कल के उभरते नायको का |

हमारी वेबसाइट एक गवाक्ष है, हमारे विद्यालय की जीवन्तता का |हमारा ध्येय है की हम अपने छात्र अभिभावक और समाज के एक बड़े हिस्से के साथ मिलकर उत्कृष्ट शिक्षण का एक ऐसा सकारात्मक ,समग्र वातावरण निर्मित करे जहाँ प्रत्येक का आकलन एवं सम्मान हो|

के. वी. क्रमान्क एक में छात्रों को नेतृत्व के गुण का विकास एवं पारस्परिक निर्भरता की आव्यशकता को पूरी तरह समझने के लिये प्रोत्साहित किया जाता है |इस बात पर पूरा जोर दिया जाता है कि छात्र दूसरों की मदद करे और विद्यालय और समाज को अपना सम्पूर्ण योगदान दें |विगत वर्ष में हमारी छात्र संख्या बढ़ी है और ये हमें बताता है की अभिभावकों का इस संख्या पर अडिग विश्वास है और इसी में हमारी शक्ति और प्रेरणा है |

हम प्रत्येक छात्र को प्रोत्साहित करते है कि वह अपने सपने को पूरा करने के लिऐ उत्कृष्ट प्रयास करें |

विद्यालय प्रांगण में आपके आगमन की प्रतीक्षा में.........................