केन्द्रीय विद्यालय नंबर 1 ग्वालियर केन्द्रीय विद्यालय संगठन के सबसे प्रतिष्ठित और प्रमुख संस्थानों में से एक है। यह हमारे देश का सबसे पुराना और सबसे बड़ा केन्द्रीय विद्यालयों में से एक है। यह 2 शिफ्टों में चल रहा है। 1965 में अपनी स्थापना के बाद से वर्तमान में यह कई गुना और लगभग 2800 (1 शिफ्ट में 2404 और 2 शिफ्ट में 415।) से अधिक चल रहा है । यहाँ शिक्षा बहुत प्रतिभावान और समर्पित शिक्षकों द्वारा + 2 स्तर पर सभी तीन धाराओं में दी जा रही है। हमारे छात्र कई अलग अलग क्षेत्रों में सर्वोपरि पदों पर हैं। और यहां साथ ही एक ही समय पर छात्रों को SGFI के लिए हर साल तैयार किए जाते हैं

के.वी. की उत्पत्ति

केन्द्रीय विद्यालया क्रमांक १, १९६५ में स्थापित संस्था, एल.एन.आई.पी.ई. के दायरे में संचालित होने के पश्चात, वर्तमान स्तिथि में १६ एकड़ जमीन में १९७१ में दो पालियों में विद्यालय संचालित है!

प्रगतिशीलता में मील का पत्थर

२४०४ प्रथम पली विद्यार्थियों, ८५ शिक्षकों और द्वितीय पाली ४१५ विद्यार्थियों तथा १७ शिक्षकों से सुसज्जित केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक १ ‘स’ वर्ग में आने वाला नगरीय संकाय का शिक्षण संस्थान है! ५० आदर्श विद्यालयों में से एक, यह विद्यालय कंप्यूटर विज्ञान तथा आई.पी. विषयों कि वैकल्पिक विषय चयन कि सुविधा देता है! मल्टीमीडिया शिक्षण, इन्टरनेट सुविधाए सम्प्रेषण तकनीक तथा ऑनलाइन सम्प्रेषण विद्यार्थियों की उपलब्ध है!

विद्यालय शुभारम्भ की तिथि

प्रथम पाली का शुभारम्भ १९६५ तथा द्वितीय पाली का प्रारंभ २००५ में हुआ!

क्रमिक वार्षिक विस्तार

विद्यालय के प्रारंभ की शुरुआत कक्षा प्रथम से पांचवी कक्षाओं तक हुआ! अब, वर्तमान में +२ स्तर तक विज्ञान वर्ग, वाणिज्य वर्ग, तथा कला वर्ग की शिक्षा दी जाती है!

संस्था का प्रकार

‘स’

उच्चतम कक्षा

उच्चतम कक्षा -१२ पांच अनुभागों सहित